Archive for April, 2016

18
Apr
16

एक हक़ीकत यह भी!

“मैं हँसी के जाम में, ज़िंदगी का ज़हर पीता हूँ,
फेंक कर पतवार को हाथों से नाव खेता हूँ.”
“मैं क्या हूँ? कहाँ का हूँ? कैसे बताऊँ?
मैं – एक वह हूँ, जो मैं समझता हूँ मैं हूँ
एक वह हूँ, जो दूसरे समझते हैं मैं हूँ
असली मैं, इन दोनो बीच कुछ हूँ.”
– कुछ पंक्तियाँ कविता संग्रह ‘क्षण घूँघरू’ से (लेखक: स्वर्गिय प्रोफेसर रमेश कुमार शर्मा)

जिंदगी की ‘जेब में
इक छेद क्या हुआ,
सिक्कों से ज़्यादा
रिश्ते सरक गये.’

Continue reading ‘एक हक़ीकत यह भी!’

Advertisements



Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 86 other followers

April 2016
M T W T F S S
« Mar   May »
 123
45678910
11121314151617
18192021222324
252627282930  
Advertisements