Archive for January, 2017

07
Jan
17

न जाने क्यों?

ख्वाबों के दरिया में
अचनाक
ताबीर आया, और
ज़ंक़े-जंगों से सजे
मेरी यादों के ताबूत में
एक दरार
नई
पड़ गयी.

न जाने क्यों
आज तुम
बहुत याद आए?

Continue reading ‘न जाने क्यों?’

Advertisements



Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 86 other followers

January 2017
M T W T F S S
« Dec   Feb »
 1
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
3031  
Advertisements