Archive for October, 2018

19
Oct
18

या शायद

मेरे वजूद पर
हमला कब हुआ, मालूम
ही न पड़ा;
या शायद,
पलक झपकी और
अँधेरा सा लगा।
थकान ने लगान वसूला
और बदन को बेचना
ही पड़ा;
या शायद,
वक्त को भी कुछ देर
अपने पलों को थामना
ही पड़ा।

Continue reading ‘या शायद’

Advertisements



Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 90 other followers

October 2018
M T W T F S S
« Sep   Nov »
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293031  
Advertisements