Archive for the 'Introspection' Category

17
Nov
18

पुलिंदा

क्या करूँ

इस पुलिंदे का? 

अब कुछ समझ 

नहीं आता। 


दान कर नहीं सकता, 

कहीं छोड़ भी नहीं पाता;

हमारे ज़माने के दस्तूर 

अब वाजिब नहीं, इसलिए 

किसी के काम का भी नहीं, 

किसी की ज़रूरत भी नहीं;

बेमतलब अब सरदर्द है मेरा, 

यादों का यह पुलिंदा। 


सीमारेखाँयों के इस माहौल में 

किसी के पास वक्त ही कहाँ? 

फेसबुक के नशे में धुत, झूमते 

और सिर्फ साइबरस्पेस की 

दीवार पर धज्जियाँ चुपकाते 

जमावड़ा खुद को ही भूल चुके;

इसलिए बाँटने का तो कोई 

मोल लाजिमी भी नहीं;

बेमतलब अब बोझ है मेरा, 

यादों का यह पुलिंदा। 


हल्की-फुल्की, छोटी-मोटी, 

खट्टी-मीठी, लंबी-चौड़ी, 

भारी-भरकम, टेढ़ी-मेढ़ी, 

नई-पुरानी, रूखी-सूखी, 

रंग-बिरंगी, सोती-जगती, 

ऊँची-नीची, हँसती-रोती, 

कभी जिस्मानी कभी रुहानी;

बेमतलब का बोध है मेरा, 

यादों का यह पुलिंदा। 


दिखावटी त्योहारों, खोखले रिश्तों, 

झूठे वादों, छलावी लोगों, जोड़-तोड़ 

की उखड़ती राहों पर हर ठोकर 

से प्रभावित हो कर, किसी दूर होते 

अरण्य के गुलाबी नुक्कड़ पर, 

फाड़ कर, चिंदियाँ बना असंख्य 

बार फेंका इनको, पर कम्बख्त 

हमेशा इठला के  चहकीं कि, 

'बेहया समझा है क्या हमें? 

न छोड़ेंगी तुम्हें';

बेमतलब का सर्पदंश है मेरा, 

यादों का यह पुलिंदा। 


अब मरते तलक खत्म 

न होने वाली इन यादों

के पुलिंदे का मैं क्या करूँ? 

वश में नहीं और भस्म 

होने से पहले, चालाक 

चुलबुली, सब की सब, 

दूसरे किसी पुलिंदों में 

रिस जाती हैं;

बेमतलब की विडम्बना है मेरी, 

यादों का यह पुलिंदा! 









Advertisements
23
Sep
18

Residents, visitors and other beings extraordinaire! 5

“There is nothing in which the birds differ more from man than the way in which they can build and yet leave a landscape as it was before.” – Robert Lynd

Over the years as ‘development’ takes place, many bird species have disappeared from this place. The woodpecker is not seen any more and the Barbet that once nested here can just be heard intermittently.

https://youtu.be/PTcom0eyWhY

Continue reading ‘Residents, visitors and other beings extraordinaire! 5’

10
Aug
18

Residents, visitors and other beings extraordinaire! 4

“In order to see birds it is necessary to become part of the silence.” – Robert Lynd

Continue reading ‘Residents, visitors and other beings extraordinaire! 4’

12
Nov
16

रक्त जड़ित आँसू

मज़बूर हूँ मैं वक़्त के तकाज़े से
मरदूद नोटों के तिलिस्मी आने-जाने से,
दिलोदिमाग के अंदर की चीखें निकल नहीं रहीं
हम खफ़ा हैं खुद अपनी
हयात से.

खंज़र से ज़्यादा नुकीले शब्दों ने
ज़हन को छलनी कर दिया,
फिर हमारी धात्री ने अपना
काम करवा के
नाकामियत की
माला से सजा दिया.

Continue reading ‘रक्त जड़ित आँसू’

18
Apr
16

एक हक़ीकत यह भी!

“मैं हँसी के जाम में, ज़िंदगी का ज़हर पीता हूँ,
फेंक कर पतवार को हाथों से नाव खेता हूँ.”
“मैं क्या हूँ? कहाँ का हूँ? कैसे बताऊँ?
मैं – एक वह हूँ, जो मैं समझता हूँ मैं हूँ
एक वह हूँ, जो दूसरे समझते हैं मैं हूँ
असली मैं, इन दोनो बीच कुछ हूँ.”
– कुछ पंक्तियाँ कविता संग्रह ‘क्षण घूँघरू’ से (लेखक: स्वर्गिय प्रोफेसर रमेश कुमार शर्मा)

जिंदगी की ‘जेब में
इक छेद क्या हुआ,
सिक्कों से ज़्यादा
रिश्ते सरक गये.’

Continue reading ‘एक हक़ीकत यह भी!’

26
Mar
16

What am I?

“There is a face behind this mask, but it isn’t me. I’m no more that face than I am the muscles beneath it, or the bones beneath that.” – Steve Moore, V for Vendetta

It has been an odd mixture of experiences these past few months….but then, what is new about it?

Something was whispered, nay pointed out. An epiphany!

And, I have no idea what I am writing?

*

I was asked as to how many ‘hits/views’ I get on my posts. My answer was, “Fifteenish.”

“Every day?” came the query.

“No,” said I, “Per week and all could be flukes.”

“Dude!” (I loathe this term), sniggered the individual, “You are not a blogger!”

True.

So, what am I?

*

Continue reading ‘What am I?’

22
Aug
15

The Exploitative Potato

“Every morning I jump out of bed and step on a landmine. The landmine is me. After the explosion, I spend the rest of the day putting the pieces together.” – Ray Bradbury

There is a small, scattered group of individuals, who for some inexplicable reason follow my blog-posts. Out of these few, there is a wee faction that never comments but always send me mail. This is also the same crowd who were fairly flustered during the long hiatus I took from blogging. Recent mails have stuff like, “Please don’t write in Hindi……Why verse only………Why don’t you write something else……..about people?”

Well! I don’t have much to say and even if I did – who would be interested or understand?

What is the point of talking about people who carry their window-frames, through which they look at me and dissect and offer unsolicited advice? Then go away pacified within themselves that they have done their bit – leaving behind the sacrificial goat that has yet to die completely and then, the plot with accompanying laughter, thickens.

Continue reading ‘The Exploitative Potato’




Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 99 other followers

October 2019
M T W T F S S
« Apr    
 123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
28293031  
Advertisements