Archive for the 'Free Verse' Category

19
Nov
17

Matter of Time

Exhausted and desperate

for sleep;

staring at the

cracked and almost falling

piece of ceiling,

I lie awake to escape

the nightmares

that swoop down

to feed on my already

corroded soul.

Continue reading ‘Matter of Time’

Advertisements
20
Oct
17

#13

Tear-drop by searing tear-drop

I continue to smother

my

unobserved,

tsunami of silent screams,

in an attempt

to totally

wipe memories, off

Continue reading ‘#13’

21
Jul
17

हमेशा की तरह

मेरे
ज़हन में बसने वाली
वह
कल
बहुत दिनों बाद
झुंझलाई सी
आई, और
धम्म से
तुनक कर
बैठ गयी;
और मैं
हमेशा की तरह
उसको
निहारता रहा|

Continue reading ‘हमेशा की तरह’

21
Jun
17

इसलिए

दिमाग फितूरी था
इसलिए
बहुत सोचा इक
दिन
फिर से
अपने बारे में;
और जाने किस
गुबार में
अष्टाव्रक जिंदगी
के उस कोने
की सफाई करने
चला।
24
Apr
17

#16

As long it serves your purpose

it’s so easy say

“I’m like this!”

Cared for and nourished

with love

you know when and where to strike,

plunder and ravage;

Continue reading ‘#16’

07
Mar
17

#18

In the shadows of mountains

the echoes of memories

hit the hard surfaces

and

come back to me

to get

tangled

in the ragged edges

of my

thoughts.

Continue reading ‘#18’

07
Jan
17

न जाने क्यों?

ख्वाबों के दरिया में
अचनाक
ताबीर आया, और
ज़ंक़े-जंगों से सजे
मेरी यादों के ताबूत में
एक दरार
नई
पड़ गयी.

न जाने क्यों
आज तुम
बहुत याद आए?

Continue reading ‘न जाने क्यों?’