Archive for the 'Uncategorized' Category

19
Nov
17

Matter of Time

Exhausted and desperate

for sleep;

staring at the

cracked and almost falling

piece of ceiling,

I lie awake to escape

the nightmares

that swoop down

to feed on my already

corroded soul.

Continue reading ‘Matter of Time’

Advertisements
20
Oct
17

#13

Tear-drop by searing tear-drop

I continue to smother

my

unobserved,

tsunami of silent screams,

in an attempt

to totally

wipe memories, off

Continue reading ‘#13’

21
Sep
17

इक घर

“मकान कई मिले , घर न बना पाए ” – मेघना
कुछ ऐैसी बात कह दी
जो दिल को छू गई,
चारदिवारियों के
इस कठोर बंजरात में
उस,
किसी,
अब
दुर्लभ होते
घर की ख्वाहिश
ज़हन में ज़हरीली
हूक मार गई।

Continue reading ‘इक घर’

21
Jul
17

हमेशा की तरह

मेरे
ज़हन में बसने वाली
वह
कल
बहुत दिनों बाद
झुंझलाई सी
आई, और
धम्म से
तुनक कर
बैठ गयी;
और मैं
हमेशा की तरह
उसको
निहारता रहा|

Continue reading ‘हमेशा की तरह’

21
Jun
17

इसलिए

दिमाग फितूरी था
इसलिए
बहुत सोचा इक
दिन
फिर से
अपने बारे में;
और जाने किस
गुबार में
अष्टाव्रक जिंदगी
के उस कोने
की सफाई करने
चला।
24
Apr
17

#16

As long it serves your purpose

it’s so easy say

“I’m like this!”

Cared for and nourished

with love

you know when and where to strike,

plunder and ravage;

Continue reading ‘#16’

07
Mar
17

#18

In the shadows of mountains

the echoes of memories

hit the hard surfaces

and

come back to me

to get

tangled

in the ragged edges

of my

thoughts.

Continue reading ‘#18’