Posts Tagged ‘Memories

17
Nov
18

पुलिंदा

क्या करूँ

इस पुलिंदे का? 

अब कुछ समझ 

नहीं आता। 


दान कर नहीं सकता, 

कहीं छोड़ भी नहीं पाता;

हमारे ज़माने के दस्तूर 

अब वाजिब नहीं, इसलिए 

किसी के काम का भी नहीं, 

किसी की ज़रूरत भी नहीं;

बेमतलब अब सरदर्द है मेरा, 

यादों का यह पुलिंदा। 


सीमारेखाँयों के इस माहौल में 

किसी के पास वक्त ही कहाँ? 

फेसबुक के नशे में धुत, झूमते 

और सिर्फ साइबरस्पेस की 

दीवार पर धज्जियाँ चुपकाते 

जमावड़ा खुद को ही भूल चुके;

इसलिए बाँटने का तो कोई 

मोल लाजिमी भी नहीं;

बेमतलब अब बोझ है मेरा, 

यादों का यह पुलिंदा। 


हल्की-फुल्की, छोटी-मोटी, 

खट्टी-मीठी, लंबी-चौड़ी, 

भारी-भरकम, टेढ़ी-मेढ़ी, 

नई-पुरानी, रूखी-सूखी, 

रंग-बिरंगी, सोती-जगती, 

ऊँची-नीची, हँसती-रोती, 

कभी जिस्मानी कभी रुहानी;

बेमतलब का बोध है मेरा, 

यादों का यह पुलिंदा। 


दिखावटी त्योहारों, खोखले रिश्तों, 

झूठे वादों, छलावी लोगों, जोड़-तोड़ 

की उखड़ती राहों पर हर ठोकर 

से प्रभावित हो कर, किसी दूर होते 

अरण्य के गुलाबी नुक्कड़ पर, 

फाड़ कर, चिंदियाँ बना असंख्य 

बार फेंका इनको, पर कम्बख्त 

हमेशा इठला के  चहकीं कि, 

'बेहया समझा है क्या हमें? 

न छोड़ेंगी तुम्हें';

बेमतलब का सर्पदंश है मेरा, 

यादों का यह पुलिंदा। 


अब मरते तलक खत्म 

न होने वाली इन यादों

के पुलिंदे का मैं क्या करूँ? 

वश में नहीं और भस्म 

होने से पहले, चालाक 

चुलबुली, सब की सब, 

दूसरे किसी पुलिंदों में 

रिस जाती हैं;

बेमतलब की विडम्बना है मेरी, 

यादों का यह पुलिंदा! 









Advertisements
19
Oct
18

या शायद

मेरे वजूद पर
हमला कब हुआ, मालूम
ही न पड़ा;
या शायद,
पलक झपकी और
अँधेरा सा लगा।
थकान ने लगान वसूला
और बदन को बेचना
ही पड़ा;
या शायद,
वक्त को भी कुछ देर
अपने पलों को थामना
ही पड़ा।

Continue reading ‘या शायद’

23
Sep
18

Residents, visitors and other beings extraordinaire! 5

“There is nothing in which the birds differ more from man than the way in which they can build and yet leave a landscape as it was before.” – Robert Lynd

Over the years as ‘development’ takes place, many bird species have disappeared from this place. The woodpecker is not seen any more and the Barbet that once nested here can just be heard intermittently.

https://youtu.be/PTcom0eyWhY

Continue reading ‘Residents, visitors and other beings extraordinaire! 5’

14
Jul
18

Residents, visitors and other beings extraordinaire! 3

“Even the dullest bird or face becomes interesting when you give it a good look in the wild/flesh. The way the shadow drops across the cheek, the light hits an eyebrow, etc… there are many more angles, positions etc. than you can ever imagine. My heart always makes a little jump when I see things in birds or faces that surprise me.” –  Siegfried Woldhek

The more I gave birds and other creatures ‘a good look’ and moved away from their spectacular markings, colours and behaviour; the further I found myself concentrating on their bodies and limbs.

Continue reading ‘Residents, visitors and other beings extraordinaire! 3’

20
Jun
18

Residents, visitors and other beings extraordinaire! 2

 “I hope you love birds too. It is economical. It saves going to heaven.” –  Emily Dickinson

I once read somewhere, that, ‘there is nothing like attracting birds to a birdbath……It’s also great to watch birds at feeders, but there’s something particularly exciting about watching birds splashing away or sipping water from a bath.’ However, the bird baths that I have, draw more birds than the feeder, and, there are certain bird species that do no use the feeder at all. And yes……………………..a pecking order exists!

Continue reading ‘Residents, visitors and other beings extraordinaire! 2’

26
Feb
18

Wood-smoke

“Let’s go for a walk……

was what I had planned to say.

I’ll gently take

and hold her hand

then find a quiet spot and

ask her

to ask questions……

was what I had decided to do.

Continue reading ‘Wood-smoke’

21
Jul
17

हमेशा की तरह

मेरे
ज़हन में बसने वाली
वह
कल
बहुत दिनों बाद
झुंझलाई सी
आई, और
धम्म से
तुनक कर
बैठ गयी;
और मैं
हमेशा की तरह
उसको
निहारता रहा|

Continue reading ‘हमेशा की तरह’




Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 90 other followers

November 2018
M T W T F S S
« Oct    
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930  
Advertisements