Posts Tagged ‘Pain

19
Oct
18

या शायद

मेरे वजूद पर
हमला कब हुआ, मालूम
ही न पड़ा;
या शायद,
पलक झपकी और
अँधेरा सा लगा।
थकान ने लगान वसूला
और बदन को बेचना
ही पड़ा;
या शायद,
वक्त को भी कुछ देर
अपने पलों को थामना
ही पड़ा।

Continue reading ‘या शायद’

Advertisements
20
Jun
18

Residents, visitors and other beings extraordinaire! 2

 “I hope you love birds too. It is economical. It saves going to heaven.” –  Emily Dickinson

I once read somewhere, that, ‘there is nothing like attracting birds to a birdbath……It’s also great to watch birds at feeders, but there’s something particularly exciting about watching birds splashing away or sipping water from a bath.’ However, the bird baths that I have, draw more birds than the feeder, and, there are certain bird species that do no use the feeder at all. And yes……………………..a pecking order exists!

Continue reading ‘Residents, visitors and other beings extraordinaire! 2’

20
Oct
17

#13

Tear-drop by searing tear-drop

I continue to smother

my

unobserved,

tsunami of silent screams,

in an attempt

to totally

wipe memories, off

Continue reading ‘#13’

21
Jul
17

हमेशा की तरह

मेरे
ज़हन में बसने वाली
वह
कल
बहुत दिनों बाद
झुंझलाई सी
आई, और
धम्म से
तुनक कर
बैठ गयी;
और मैं
हमेशा की तरह
उसको
निहारता रहा|

Continue reading ‘हमेशा की तरह’

21
Jun
17

इसलिए

दिमाग फितूरी था
इसलिए
बहुत सोचा इक
दिन
फिर से
अपने बारे में;
और जाने किस
गुबार में
अष्टाव्रक जिंदगी
के उस कोने
की सफाई करने
चला।
18
Dec
16

#37

a question was

asked and the answer spat

out.

an arm extended only

to be pushed

away.

Continue reading ‘#37’

12
Nov
16

रक्त जड़ित आँसू

मज़बूर हूँ मैं वक़्त के तकाज़े से
मरदूद नोटों के तिलिस्मी आने-जाने से,
दिलोदिमाग के अंदर की चीखें निकल नहीं रहीं
हम खफ़ा हैं खुद अपनी
हयात से.

खंज़र से ज़्यादा नुकीले शब्दों ने
ज़हन को छलनी कर दिया,
फिर हमारी धात्री ने अपना
काम करवा के
नाकामियत की
माला से सजा दिया.

Continue reading ‘रक्त जड़ित आँसू’




Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 90 other followers

November 2018
M T W T F S S
« Oct    
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930  
Advertisements