Posts Tagged ‘Politics

25
Mar
18

Just yesterday?

(1)

आज सारे कोदंडधारी राम, सबके सब,

स्वर्णमृगों के पीछे गए, और लौटे नहीं,

सारे के सारे लक्ष्मण रावण से मिल

गए, और रेखा खींची नहीं।

सारे जटायु सीताओं की रक्षा में,

अनगिनत रावणों के हाथों

शहीद हो गए कट-कट कर ध्वस्त हो गये।

शेष रह गए हैं अब

बेशुमार सम्पाती

जो सूर्य की ओर, चार वर्षों में

केवल, चार कदम चल पाये, और

सत्य पर लगे स्वर्ण के ढक्कन से

अभिभूत होकर, उसी से चिपक गए,

फिर उन्होंने अपने चमचों से

अपनी चार-कदमी उड़ान के गीत गावये।

Continue reading ‘Just yesterday?’

Advertisements
04
Mar
15

मेरा साया

कुछ दिनों पहले
खिड़कियों में लगे जंगले से
इक़ पोषीदा साया
मेरी नज़रों में इठलाया.

Continue reading ‘मेरा साया’

05
Feb
11

Lest we forget

“All that is still occurring, and people are now reducing it to politics and shifting it to the blame game. It‘s sad that human tragedy is being reduced to politics.” – Denise Bottcher

The  picture  depicts  a  famine  stricken  child  crawling  towards  an  United  Nations  food  camp,  located  a  kilometre  away. The  vulture  is  waiting  for  the  child  to  die  so  that  it  can  eat  it.  This picture shocked the whole world.  No  one  knows  what  happened  to  the  child,  including  the  photographer  Kevin Carter  who  left  the  place  as  soon  as  the  photograph  was  taken.

Three months later he committed suicide due to depression.

 

06
Jul
10

भारत बँध

कल भारत बँध था| महँगाई के खिलाफ विपक्षी दलों का प्रदर्शन| वो महँगाई जो हमारे नेताओं को व्यक्तिगत रूप से कभी भी महसूस नहीं होती, असर नही होता, फ़र्क नहीं पड़ता – चाहे फिर वो कॉंग्रेसी हों, भाजप के हों या कोई और अन्य पार्टी|

कल, ५ जुलाई २०१० को भारत बँध था| हमारे देश में बढ़ती हुई महँगाई से भी ज़्यादा बढ़ती मानसिक नपुंसकता का एक भव्य प्रदर्शन था|



Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 90 other followers

November 2018
M T W T F S S
« Oct    
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930  
Advertisements