Posts Tagged ‘Yearning

07
Jan
17

न जाने क्यों?

ख्वाबों के दरिया में
अचनाक
ताबीर आया, और
ज़ंक़े-जंगों से सजे
मेरी यादों के ताबूत में
एक दरार
नई
पड़ गयी.

न जाने क्यों
आज तुम
बहुत याद आए?

Continue reading ‘न जाने क्यों?’

15
Apr
15

#38

The waves of colour

submerge me and I drown

with joy

revelling in silvery-gold downpour.

The music ecstatically

swirls intricate blue sources of radiance;

Continue reading ‘#38’